Category: Dharm-Parampra

Eid Mubarak

Eid Mubarak

Image Credit :Google एक माह की कठिन तपस्या,होती है रमजान में। सुना है तेरी बरकत सब पर,होती है रमजान में, रोजे के इस पाक महीना, ईद मिलन की बेला में, कहाँ छुपा मेरे भगवन तू, दुनियाँ के इस मेला में, ऐ अल्लाह अगर तू रब है, तू ही ईश्वर और भगवान्, आकर देख धरा पर … Continue reading Eid Mubarak

Advertisements
Chand

Chand

Image Credit :Google मजहब है ना चाँद का कोई, हम सब की मजहब में चाँद, जिसकी जैसी आँखें वैसी, आँखों में दिखता है चाँद। कोई कहता चन्दा मामा, कोई कहता दूज का चाँद, करवाचौथ के व्रत को तोड़ा, थाल में देखी जब वो चाँद, राजा दक्ष के चाँद जमाई, शीश शुशोभित शिव-शम्भू, सारे जग को … Continue reading Chand

Kaisa Sansar Kaise Ham

Kaisa Sansar Kaise Ham

Image Credit : Google ये संसार भी अजीब है, जब कोई इंसान माया,मोह,छल,कपट, नफरत,घृणा,आडम्बर से थक सत्य की खोज में निकलता है, अपने सारे सुख,सुविधाओं को छोड़, जंगल,जंगल भटकता है, जानना चाहता है कि वह कैसा भगवान, जो इंसान से इंसान को लड़ाता है, किसी को नीच तो किसी को महान बनाता है, हम कालान्तर … Continue reading Kaisa Sansar Kaise Ham

Urmila ki Dasha

Urmila ki Dasha

Click here to read part-1 सजी ऐसी अवध नगरी,की दुल्हन भी नहीं सजती, लखन,सिया,राम आये हैं,ख़ुशी कहते नहीं बनती। सजा आकाश तारों से, सजी वैसी अवध नगरी, ख़ुशी से झूमते सारे, ख़ुशी कहते नहीं बनती, वहीं ऐसा भी एक कोना, बिरह की आग में जलती, बनी पत्थर सी एक मूरत, किसी की राह है तकती … Continue reading Urmila ki Dasha

Urmila Patra of Ramayna

Urmila Patra of Ramayna

Image Credit :Google बैदेही की बहन उर्मिला,की मैं कथा सुनाऊँ कैसे, चौदह वर्ष की बिरह,वेदना,त्याग,तपस्या गाउँ कैसे। जिस गुलशन में अभी-अभी आया बसंत का मेला था, फूल बनी ओ खिली ही थी की,बिरह ने डाला डेरा था, प्रियतम ही यमराज बना,सन्देश सुनाने आया, प्राणहीन काया कैसी ये,समझाने को आया, सिया-राम संग वन जाने को मन … Continue reading Urmila Patra of Ramayna

MANN/मन

MANN/मन

Iamges Credit : Google. मन रे ले चल तूँ उस पार, जहाँ ना नफरत का संसार, तुम्हारी अजब की है रफ़्तार विनय मैं करता हूँ, बता वो कहाँ बसा संसार निवेदन करता हूँ। जहाँ पर जात-पात ना धर्म, जहाँ ना अल्लाह ना भगवन, जहां पर हो ना वेद,पुराण, नहीं हो गीता और कुरान, जहाँ पर … Continue reading MANN/मन

Happy Holi

Happy Holi

"गालों से ज्यादा हथेली ये लाल है, होली में कितनों का ऐसा ही हाल है, दिल क्या करे है ये बेबस,लाचार, कहीं पर गाल है कहीं पर गुलाल है। नाचे है मनवा ख़ुशी चहुओर, रंगों से कोई हुआ सराबोर, किसी के झरोखे पर कोरा रुमाल है, कहीं पर गाल है कहीं पर गुलाल है। रंग … Continue reading Happy Holi