Tag: Insan

MUSKAAN/मुस्कान

MUSKAAN/मुस्कान

Image Credit : Google. है जीवन अपना दो दिन का हँस ले इसमें है रोना क्या, कुछ लेकर आये ना जग में फिर खोना क्या, क्या लेकर आये थे फिर यारा रोना क्या। संग बचपन था कल चला गया, यौवन भी छोड़ के जाएगा, जो हँसकर आये पास मेरे, एक दिन वह रूठ के जाएगा,, … Continue reading MUSKAAN/मुस्कान

Advertisements
Karm aur bhagya

Karm aur bhagya

एक लेकर आया जग में चम्मच सोने का, दूजा टीन का, एक बन बैठा था शहंशाह के जैसे जग में, दूजा हीन सा।। एक निसदिन इंच खिसकते,अहम में चूर थे, दूजा कर्मपथ पर,हर पल ही मशगुल थे, कर दी उसने सत्यानाश,उँच बड़ेरी खोखड़ बाँस, मगर ज्ञान ना आई लग गई,पाँव में बेड़ी,गर्दन फाँस, वे ज्ञान … Continue reading Karm aur bhagya

BHUKH

BHUKH

सेज सजी मखमल की फिर भी नींद नहीं है आती, थाल सजी छत्तीस ब्यंजन पर भूख नहीं ला पाती। आह निकलती निर्धन की, उस ब्यंजन से उस बिस्तर पर, भूख लगे कैसे धनिकों को, नींद लगे फिर मखमल पर, महलों में ना चैन किसी को, ना सुकून मिलता है, देख सको तो देख लो, निर्धन … Continue reading BHUKH