Bharat Gatha (Part.4)

Click here to cont..Part..3

Image Credit : Google.
आर्य-द्रविड़ की धरती भारत,
सोने की चिड़ियाँ थी भारत,
पड़ी विश्व की नजर कथा उस जम्बूद्वीप की गाता हूँ,
रौंद दिया सभ्यता उसी भारत की हाल सुनाता हूँ|२
सतयुग में चहुंओर सत्य था,
संग धर्म के चारो पांव,
त्रेता तीन,दो द्वापर में,
कलियुग में बस एक हैं पांव,
कर्म आधारित वर्ण बदल गए,
जात-पात में सभी उलझ गए,
आम जनों की बेबस आँखे,
सत्य,प्रेम के लिए तरस गए,
झूठ,स्वार्थ,छल भर गए मन में,
एक बसी अभिलाषा,
सारा जग हो मेरे बस में,
मैं ही बनूँ बिधाता,
टुकड़ों में संसार बंटा फिर,
सबका खंजर लाल हुआ फिर,
टुकड़ों में फिर बंटा हिन्द,जिसकी गाथा मैं गाता हूँ,
रौंद दिया सभ्यता उसी भारत की हाल सुनाता हूँ ||

ClYx-poUoAA0k24

अखंड भारत का सपना फिर से,
देखा था एक ब्राम्हण,
क्रूर नन्द की जड़ें हिला दी,
जिद्दी वह एक ब्राम्हण,
नस-नस में थी देश प्रेम,
मन में एक ज्वाला खौल उठी,
चला सिकन्दर विश्वविजय सुन,
बिजली नस में दौड़ उठी,
ब्राम्हण था चाणक्य चला तब,
धनानंद से मिलने को,
मगधपति से देशहित में,
अनुनय,बिनय करने को,
हे राजन तुम शक्तिशाली,
देश एक कर सकते हो,
भारत पर संकट की छाया,
को राजन हर सकते हो,
बिबिध भाँति उसने समझाया,
देश प्रेम का अलख जगाया,
धनानन्द ने उस ब्राम्हण पर,
व्यंग भरे कई तीर चलाया,
कुंठित हो कौटिल्य चला,
प्रण किया वहाँ पर भारी,
धनानन्द का अंत करूंगा,
उसने मन में ठानी,
फिर अदना सा एक बालक को,
उसने मौर्य बनाया,
धनानन्द का अंत संग
सेल्युकस को मार भगाया,
मौर्यवंश का नींव रखा जो,
चन्द्रगुप्त था नाम,
जिसका पुत्र अशोक किया,
अखंड भारत निर्माण,
मगर हिन्द की दुखद कहानी
अपनों ने कर दी मनमानी,
हिन्द स्वार्थ की वेदी चढ़ा फिर,
टुकड़ों में कई हिन्द बंटा फिर,
तड़प उठी धरती माँ फिर से,जिसका क्रंदन गाता हूँ
रौंद दिया सभ्यता उसी भारत की हाल सुनाता हूँ ||
मौर्यवंश और गुप्तवंश ने,
भारत को सम्मान दिया,
मगर हमारी स्वार्थ सोंच ने,
माँ का सीना फाड़ दिया,
हम बिखरे कई बार सवंरने की
कोशिश बेकार गयी,
देख हमारी फुट को बेबस,
धरती माँ लाचार हुयी,
बाहर देश के सभी लुटेरे,
मेरे कारण ही आये,
यमन और हूणों ने हमपर,
ताकत अपना दिखलाये,
लूटकर झोली भर ली सबने
आमजनों के नयन थे बरसे,
हमें मिटा खुद बन गए शासक बर्बरता मैं गाता हूँ,
रौंद दिया सभ्यता उसी भारत की हाल सुनाता हूँ ||
!!!मधुसूदन!!!

Click here to read part ..5

Aary-dravid kee dharatee bhaarat,
sone kee chidiyaan hain bhaarat,
padee vishv kee najar katha us jambuddp kee gaata hoon,
raunda dee sabhyata usee bhaarat ka haal sunaata hoon 2
sateeyug mein chahunro saty tha,
sang dharm ke chaaro paanv,
treta teen, bache dvaapar do,
kaliyug mein bas ek hain paanv,
karm aadhaarit varn badal gaya,
jaat-paat mein sabhee ghabara gae,
aam janon kee bebas aankhen,
saty, prem ke lie taras gae,
jhooth, svaarth, chhal bhar gae man mein,
ek basee abhilaasha,
saara jag ho mere bas mein,
main hee banoon bidhaata,
tukadon mein sansaar banta phir,
sabake khanjar laal hua phir,
tukade mein phir banta hind jisaka main gaatha gaata hoon,
raunda dee sabhyata usee bhaarat ka haal sunaata hoon.
akhand bhaarat ka sapana dekha,
phir ek chhota braahman,
kroor nand kee jaden hila dee,
ek jiddee tha braahman,
ek adana sa baalak ko phir se,
vah maury banaaya,
jisaka putr ashok ne usake,
sapana poora kiya gaya,
magar hind ka dukhad kahaanee
apanon ne kar di mamaanee,
hind svarth kee vedee chadha phir,
tukadon mein kaee hindoo banta phir,
tadap uthee dharatee maan phir se, usakee kraanti gaata hoon,
raunda dee sabhyata hee bhaarat ka haal sunaata hoon.
mauryavansh aur guptavansh ne,
bhaarat ko sammaan diya,
magar hamaare svaarth sonch ne,
maan ka seena phaad diya,
mujhe bikhaare kaee baar savarnane kee
koshish bekaar gayee,
dekhe hamaare phut bebas,
dharatee maan laachaar huyee,
baahar desh ke sabhee lutere,
mera kaaran hee aaye,
yaman aur hunon ne ham par,
taakat apane dikhalaaye,
jholee dhan se bhare hue the,
aam janon ke nayan bhare the,
ham huye khud ban gae shaasak barbarata main gaata hoon,
raunda dee sabhyata usee bhaarat ka haal sunaata hoon.
!!! Madhusudan!!!

Click here to read part ..5

Advertisements

26 thoughts on “Bharat Gatha (Part.4)

  1. भारतरत्न चाणक्य की कथा निराली
    हर शब्द जीवन की हल करे पहेली
    नियम नियंत्रण संयम संयमित
    बुद्धि मति की अटल है
    नींव का पत्थर है जिनकी सब थ्योरी
    बहुत सुंदर पथ पर अग्रसर हो भाई सुप्रभात

    Liked by 3 people

    1. बिल्कुल सही कहा आपने,गुरु चाणक्य की हर शब्द निराली है।।सुक्रिया आपने बहुत सुंदर अपनी प्रतिक्रिया दी।।

      Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s