Author: Madhusudan

DEEPAWALI

DEEPAWALI

आओ मिलजुल दीप जलाएँ, अंतर्मन को हम चमकाएं, करें सफाई घर संग मन को, आज दिवाली है, आओ चमकाएं हम जग को आज दिवाली है।2 कार्तिक काली रात अमावस, खुशियाँ लेकर आई, दीप जला चहुँओर अवध में, मानो पूर्णिमा आई, छटी घटा गम खुशियाँ आई, अंतिम दिन वनवास की आई, लंक विजय घर लौटे रघुवर, … Continue reading DEEPAWALI

Advertisements
परिवर्तन/Pariwartan

परिवर्तन/Pariwartan

आशियाना बदलते रहे उम्र भर,कुछ भी बदला नहीं, हम बदलते रहे धर्म और जातियां,कुछ भी बदला नहीं । हम अकेला चले कारवां बन गया, देखते-देखते ये जहाँ बन गया, जब जुआरी थे हमको जुआरी मिला, जब बने हम शराबी शराबी मिला, हम जैसा थे वैसा जहां बन गया,कुछ भी बदला नहीं, हम बदलते रहे धर्म … Continue reading परिवर्तन/Pariwartan

Ristey

Ristey

जब से है दुनियाँ जब से है हम, हमसे है रिश्ते रिश्तों से हम, हम से ही बनते बिगड़ते हैैं रिश्ते, किसको कहें कैसे मिटते हैं रिश्ते, दिमाग से बने रिश्ते कभी टिकटे नहीं, दिल से बनें रिश्ते कभी मिटते नहीं, वैसे तो मिटानेवाले कुछ भी मिटा देते हैं, दूध का कर्ज,माँ का दर्द भुला … Continue reading Ristey

DARD/दर्द

DARD/दर्द

Image credit:Google चैन दिन में कहीं अब तो आती नहीं, नींद रातों में भी मुझको आती नही, क्यूँ बताएं कि है किस तरह जिंदगी, जब हमारी तुम्हें याद आती नहीं। जब हमारी तुम्हें याद आती नहीं।। चाँदनी रात सी थी अमावस कभी, ग्रीष्म भी शीत सी लग रही थी कभी, अब हमें पूस ठंडक दिलाती … Continue reading DARD/दर्द

Dhairya ki Seema

Dhairya ki Seema

धार तेज नदियों की चाहे, कोई दुर्गम घाटी हो, बाँध बना सकते हो उसपर, चाहे गीली माटी हो, मगर जो टूटा बाँध धैर्य का उसको बाँध ना पाओगे, खेल रहा क्यों धैर्य से मेरे,जीवन भर पछताओगे।2 टिप-टिप रिसता नल से पानी, उसे पलम्बर बंद करे, जब रिसता है आंख से पानी, कौन पलम्बर बंद करे, … Continue reading Dhairya ki Seema