BHARAT GATHA (Part-8)

Click here to read part..7
Images Credit : Google
आर्य-द्रविड़ की धरती भारत,
सोने की चिड़ियाँ थी भारत,
पड़ी विश्व की नजर कथा उस जम्बूद्वीप की गाता हूँ,
रौंद दिया सभ्यता उसी भारत की हाल सुनाता हूँ|२
सदी सातवीं से पहले भी हमले देखे भारत ने,
सहन किए हैं मुग़लकाल के बाद भी हमले भारत ने,
मगर धर्म पर ऐसे हमले ना पहले ना बाद हुआ,
मंदिर तोड़े इस युग में जितने ना फिर बर्बाद हुआ
जब विकसित होने की राहों पर संसार चला था,
उसी काल में सोने की चिड़ियाँ का पंख कटा था,

सदी सातवीं से भारत का क्या हालात दिखाएं,
किसके क्रूर छबि को छोड़ें किसका त्याग भुलाएँ,
दाहिर की पत्नी का जौहर,या पद्मिनी को भुलें
या हाडीरानी की हम बलिदान को पीछे छोड़ें,
रतन सिंह चूडावत का हम शौर्य,प्रेम को भुलें,
या महारानी दुर्गावती के रणकौशल को भूले,
कैसे लिख दें गोरी,ऐबक,मुगल रहम दिलवाले,
कैसे लिख दें पृथ्वीराज,प्रताप क्रूर छबिवाले,
हम कैसे बलिदान भूल,पूर्वज का मान घटाएं,
कैसे हम उस क्रूर मुगल की,झूठी गाथा गाएँ,
कैसे जयमल,पत्ता का शाका,और जौहर भूलें,
शम्भाजी,शिवाजी,वाजीराव की गाथा भूले,
गुरु गोविन्द के बच्चे दीवारों में चुनवाया था,
कैसे भूले तेग बहादुर का सिर कटवाया था,
शौक नहीं उन आक्रांता का नाम यहाँ दुहराऊं,
मगर बिबसता है कैसी उसको कैसे बतलाऊँ,
जब भी कहता पृथ्वीराज संग गोरी जुड़ जाता है,
जब भी मैं प्रताप कहूँ संग अकबर जुड़ जाता है,
रणभूमि और दुर्ग में जाते रक्त नजर आता है,
पद्मावती का दृढ़ रूप तो खिलजी दिख जाता है,
खनवाँ का मैदान कहूँ तो पहले सांगा आते,
बाबर का वह क्रूर रूप बिन देखे है दिख जाते,
बाबर था ना पैगम्बर,खलीफा ना ही पीर,
मगर उपाधि गाजी की,दिलवाई थी शमसीर,
उरवा,संभल,चंदेरी,अगणित मंदिर तुड़वाया,
बचा आज भी खंडहर,कुछ पर मस्जिद है बनवाया,
शब्द तड़पते रोकूं कैसे,कलम धार को मोडूँ कैसे,
कैसे उसके जुल्म छुपाऊँ,मैं बेबस हो जाता हूँ,
रौंद दिया सभ्यता उसी भारत की हाल सुनाता हूँ|२
!!!मधुसूदन!!!

“आक्रांता का कोई जाति और मजहब नही होता उसे खुद से जोड़ना स्वयं को दुखी करना है।रावण ब्राम्हण था मगर उसकी सोंच उसे दानव बना दिया फलस्वरूप उसे कोई भी अपने जाति से नही जोड़ता। इतिहास कितना भी जलाया जाए मिटाया नही जा सकता साथ ही इतिहास को यादकर जिया भी नहीं जा सकता। ये देश हमसभी जाति,धर्मावलंबियों का है,किसी एक की भी उपेक्षा कर इस देश की कल्पना नहीं की जा सकती और उपेक्षा कोई करे भी क्यों, पूर्व में हमसभी तो आर्य-द्रविड़ ही थे।ये भी देखने में नाम दो है परंतु दोनों एक ही हैं,बस उत्तर में रहनेवाले आर्य और दक्षिणवाले को कालान्तर में द्रविड़ कहा जाने लगा,ततपश्चात हम कई धर्म एवं जातियों में विभक्त हो गए । ऐसे में किसी धर्म या जाति को नीचा बोल खुद को श्रेष्ठ बोलना बुद्धिहीनता से कम नहीं। मेरे तरफ से वहीं से कविता लिखने का एक छोटा प्रयास,शायद आप सब को पसंद आये।”

Cont Part…9

Aary-dravid kee dharatee bhaarat,
sone kee chidiyaan thee bhaarat,
padee vishv kee najar katha us jamboodveep kee gaata hoon,
raund diya sabhyata usee bhaarat kee haal sunaata hoon|2
sadee saataveen se pahale bhee hamale dekhe bhaarat ne,
sahan kie hain mugalakaal ke baad bhee hamale bhaarat ne,
magar dharm par aise hamale na pahale na baad hua,
mandir tode is yug mein jitane na phir barbaad hua
jab vikasit hone kee raahon par sansaar chala tha,
usee kaal mein sone kee chidiyaan ka pankh kata tha,

sadee saataveen se bhaarat ka kya haalaat dikhaen,
kisake kroor chhabi ko chhoden kisaka tyaag bhulaen,
daahir kee patnee ka jauhar,ya padminee ko bhulen
ya haadeeraanee kee ham balidaan ko peechhe chhoden,
ratan sinh choodaavat ka ham shaury,prem ko bhulen,
ya mahaaraanee durgaavatee ke ranakaushal ko bhoole,
kaise likh den goree,aibak,mugal raham dilavaale,
kaise likh den prthveeraaj,prataap kroor chhabivaale,
ham kaise balidaan bhool,poorvaj ka maan ghataen,
kaise ham us kroor mugal kee,jhoothee gaatha gaen,
kaise jayamal,patta ka shaaka,aur jauhar bhoolen,
shambhaajee,shivaajee,vaajeeraav kee gaa
tha bhoole,
guru govind ke bachche deevaaron mein chunavaaya tha,
kaise bhoole teg bahaadur ka sir katavaaya tha,
shauk nahin un aakraanta ka naam yahaan duharaoon,
magar bibasata hai kaisee usako kaise batalaoon,
jab bhee kahata prthveeraaj sang goree jud jaata hai,
jab bhee main prataap kahoon sang akabar jud jaata hai,
ranabhoomi aur durg mein jaate rakt najar aata hai,
padmaavatee ka drdh roop to khilajee dikh jaata hai,
khanavaan ka maidaan kahoon to pahale saanga aate,
baabar ka vah kroor roop bin dekhe hai dikh jaate,
baabar tha na paigambar,khaleepha na hee peer,
magar upaadhi gaajee kee,dilavaee thee shamaseer,
urava,sambhal,chanderee,aganit mandir tudavaaya,
bacha aaj bhee khandahar,kuchh par masjid hai banavaaya,
shabd tadapate rokoon kaise,kalam dhaar ko modoon kaise,
kaise usake julm chhupaoon,main bebas ho jaata hoon,
raund diya sabhyata usee bhaarat kee haal sunaata hoon|2
!!!madhusudan!!!

“”aakraanta ka koee jaati aur majahab nahee hota use khud se jodana svayan ko dukhee karana hai.raavan braamhan tha magar usakee sonch use daanav bana diya phalasvaroop use koee bhee apane jaati se nahee jodata. itihaas kitana bhee jalaaya jae mitaaya nahee ja sakata saath hee itihaas ko yaadakar jiya bhee nahin ja sakatye desh hamasabhee jaati,dharmaavalambiyon ka hai,kisee ek kee bhee upeksha kar is desh kee kalpana nahin kee ja sakatee aur upeksha koee kare bhee kyon, poorv mein hamasabhee to aary-dravid hee the.ye bhee dekhane mein naam do hai parantu donon ek hee hain,uttar mein rahanevaale aary aur dakshinavaale ko kaalaantar mein dravid kaha jaane laga,tatapashchaat ham kaee dharm evan jaatiyon mein vibhakt ho gae . aise mein kisee dharm ya jaati ko neecha bol khud ko shreshth bolana buddhiheenata se kam nahin. mere taraph se vaheen se kavita likhane ka ek chhota prayaas,shaayad aap sab ko pasand aaye.”

Cont Part…9

Advertisements

22 thoughts on “BHARAT GATHA (Part-8)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s